गेहूं

भारत में परम्परागत रुप से गेहूं की खेती मुख्यतः उत्तरी भागों में होती है । भारत के उत्तरी राज्यों पंजाब एवं हरियाणा के मैदानों में भरपूर मात्रा में गेहूं की पैदावार होती है । विगत कुछ वर्षों में इस अनाज का ध्यानपूर्वक अध्ययन किया गया है और हाल में भारतीय वैज्ञानिकों द्वारा किए गए अनुसंधानों से दुरुम गेहूं की बेहतर किस्मों का विकास हुआ है ।

गेहूं की खेती चिकनी मिट्टी में की जाती है और इसके भौतिक गुणों की वजह से इसकी बहुत मांग है। इसकी उच्च पाचक शक्ति और एकरूप सुनहरा रंग इसे रोटी बनाने तथा पास्ता बनाने में आदर्श बनाता है जो कोमल व्यापारिक रुप से उपजे गेहूं से भिन्न है जिसमें दुरुम की क्षमता और एकरूप्ता कम होती है। आज भारत सभी किस्मों के गेहूं का पर्याप्त निर्यात कर रहा है और आने वाले वर्षों में इसके दानों तथा उपज को बेहतर बनाने के लिए विस्तृत अनुसंधान प्रयास किए जा रहे हैं । भारत में पंजाब और हरियाणा के मैदानों के उत्तरी राज्यों में अत्याधिक गेहूं उत्पादक हो गए हैं। जबकि विगत कुछ वर्षों में इस अन्न का ध्यानपूर्वक अध्ययन किया गया। भारत में बेहतरीन वैज्ञानिक तकनीक द्वारा हाल ही के वर्षों में किए गए अनुसंधान से दुरुम आटे की उच्च कोटि की किस्मों का विकास दिखाई पड़ा है। यद्यपि पिछले 5 वर्षों में दस गुना उत्पादन से भारत पूरे विश्व में गेहूं उत्पादन में दूसरा सबसे बड़ा देश है। अनेक अध्ययनों और शोधों से पता चला है कि भारत खाद्य अर्थव्यवस्था के प्रबंधन में गेहूं और गेहूं के आटे की भूमिका बढ़ती जा रही है।

 

किस्में :
भारत में उगाए जाने वाली गेहूं की किस्में हैं वी.एल- 832, वी.एल-804, एच.एस-365 , एच.एस-240, एच.डी-2687, डब्ल्यू.एच-147, डब्ल्यू.एच-542, पी.बी डब्ल्यू-343 , डब्ल्यू.एच-896 (डी), पी.डी.डब्ल्यू-233 (डी), यू.पी-2338, पी.बी.डब्ल्यू -502, श्रेष्ठ (एच.डी-2687), आदित्य (एच.डी 2781), एच.डब्ल्यू -2044, एच.डब्ल्यू-1085, एन.पी-200 (डी.आई), एच.डब्ल्यू-741) |


कृषि क्षेत्र :  भारत में उत्तरप्रदेश, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात और बिहार प्रमुख गेहूं उत्पादक राज्य हैं ।


भारतीय तथ्य एवं आंकड़े :
अन्य सभी संयुक्त फसलों की तुलना में विश्व व्यापार के संदर्भ में गेहूं सर्वाधिक है। वैश्विक बाज़ार में भारतीय गेहूं की मांग हर वर्ष बढ़ती जा रही है। विश्व भर में भारत के गेहूं की बढ़ती मांग एक उन्नत प्रवृति को दर्शाती है। 2018-19 के दौरान भारत से 424.94 करोड़ रुपए / 60.55 अमरीकी मिलियन डॉलर की कीमत पर 2,26,225.00 मीट्रिक टन गेहूं निर्यात किया गया था।


प्रमुख निर्यात लक्ष्य (2018-19) : नेपाल, बांग्लादेश, संयुक्त अरब अमीरात, सोमालिया और श्रीलंका।