मक्का

मक्का (ज़िया मेस एल.) विभिन्न कृषि-जलवायु स्थितियों के अंतर्गत सबसे बहुमुखी उभरती हुई व्यापक अनुकूल फसल में से एक है। वैश्विक स्तर पर, मक्का को अनाजों में प्रमुख माना जाना जाता है क्योंकि इसमें अनाजों के बीच उच्च आनुवांशिक उपज क्षमता होती है। इसकी खेती लगभग 165 देशों में लगभग 190 मीटर हेक्टेयर पर की जाती है जिसमें मिट्टी, जलवायु, जैव विविधता और प्रबंधन प्रथाओं की व्यापक विविधता है जिसका वैश्विक अनाज उत्पादन में 39% योगदान है। लगभग 36% योगदान के साथ संयुक्त राज्य अमरीका (यू.एस.एस) मक्का का सबसे बड़ा उत्पादक है। मक्का अमरीकी अर्थव्यवस्था का चालक है। भारत में मक्का पूरे वर्ष उत्पादित किया जाता है। मक्का, सीजन में खेती के अंतर्गत 85% क्षेत्र के साथ एक प्रमुख खरीफ फसल है। भारत में चावल और गेहूं के बाद मक्का तीसरी सबसे महत्वपूर्ण अनाज की फसल है। यह देश में कुल अनाज उत्पादन का लगभग 10 प्रतिशत है। पशुओं के लिए मानव और गुणवत्ता खाद्य के लिए मुख्य भोजन के अतिरिक्त मक्का हजारों औद्योगिक उत्पादों के लिए एक मूल कच्चे माल के रूप में कार्य करता है जिसमें स्टार्च, तेल, प्रोटीन, मादक पेय पदार्थ, खाद्य स्वीटर्स, फार्मास्यूटिकल, कॉस्मेटिक, फिल्म, कपड़ा, गम, पैकेज और पेपर उद्योग आदि शामिल हैं।


खेती के क्षेत्रः

कर्नाटक, मध्य प्रदेश, बिहार, तमिलनाडु, तेलंगाना, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश - भारत में मक्का के प्रमुख उत्पादक राज्य हैं।


भारत में उत्पादनः

2015-16 में मक्का का उत्पादन लगभग 21,810 टन हुआ है।


भारतीय तथ्य एवंआंकड़े :

अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में भारत के अनाज उत्पादों की हिस्सेदारी में वृद्दि हुई है। भारत से वर्ष 2018-19 के दौरान विश्व भर में 10,51,277.95 मीट्रिक टन अनाज का निर्यात किया गया जिसकी कीमत 1,871.62 करोड़ रुपए/ 270.16 अमरीकी मिलियन डॉलर थी।


प्रमुख निर्यात लक्ष्य (2018-19): नेपाल, बांग्लादेश, फिलीपींस, वियतनाम समाजवादी गणराज्य और पाकिस्तान।